कानपुर: सरकारी बाल संरक्षण गृह में 57 लड़कियों को कोरोना, कुल 7 प्रेग्‍नेंट, प्रशासन ने दी सफाई

सुमित शर्मा, कानपुर
कानपुर के राजकीय बाल संरक्षण गृह में कोरोना संक्रमण की जांच के दौरान पता चला कि यहां रहने वाली दो लड़कियां गर्भवती हैं। इतना ही नहीं इन दो में से एक को एचआईवी है दूसरी हेपेटाइटिस सी से ग्रस्‍त है। इस जानकारी के बाद स्‍थानीय प्रशासन में हड़कंप मच गया। बाद में प्रशासन ने जानकारी दी कि कुल 7 गर्भवती हैं और ये शेल्‍टर होम लाने से पहले ही प्रग्‍नेंट थीं।
कानपुर का राजकीय बाल संरक्षण गृह
इस मामले में मंडलायुक्त डॉ सुधीर एम बोबडे के निर्देश पर जिलाधिकारी डॉ ब्रह्म देव राम तिवारी ने बताया कि इस संरक्षण गृह में कुल 57 कोरोना पॉजिटिव संवासिनी पाई गई हैं। कुल संरक्षित बालिकाओ में 7 बालिकाएं गर्भवती पाई गईं , जिसमें 5 कोरोना पॉजिटिव हैं। शेष 2 निगेटिव पाई गई हैं। पांच पॉजिटिव संवासिनी जनपद आगरा, एटा, कन्नौज फिरोजाबाद व कानपुर के CWC (बाल कल्याण समिति) ने भेजा था। सातों संवासिनी सेल्टर होम आने से पहले ही गर्भवती थीं।

57 में हुई थी कोरोना की पुष्टि
राजकीय बाल संरक्षण गृह में 57 संवासिनियों में संक्रमण की पुष्टी हुई थी । संक्रमित बालिकाओं को जब कोविड-19 के इलाज के लिए रामा मेडिकल कॉलेज भेजा गया तो वहां जांच में पाया कि दो 17 साल की किशोरियां गर्भवती हैं। गर्भवती होने के साथ ही एक एचआईवी से और दूसरी हेपेटाइटिस सी के संक्रमण से भी ग्रसित है। दोनों गर्भवती किशोरियों को जज्चा-बच्चा हॉस्पिटल भेजा गया है। कोरोना के साथ एचआईवी और हेपेटाइटिस सी के संक्रमण होने के कारण स्वास्थ्य विभाग की चिंताएं और भी बढ गई है।

पुलिस का स्‍पष्‍टीकरण
इस पूरे मामले में कानपुर के SSP दिनेश कुमार पी. का कहना है कि दोनों लड़कियां शेल्टर होम आने से पहले ही प्रेग्नेंट थीं। आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज है। एक लड़की कन्नौज तो दूसरी आगरा से आई थी। बेवजह मामले को गलत मोड़ दिया जा रहा है।


सीएम योगी ने की डीएम से बात
राजकीय बालिका गृह में दो 17 साल की बच्चियों के गर्भवती पाए महिला आयोग की सदस्य पूनम कपूर का कहना है कि इस पूरे मामले को सीएम ने संज्ञान में लिया है। सीएम ने कानपुर डीएम से बात की है।

'पॉक्‍सो ऐक्‍ट में आती हैं लड़कियां'
महिला आयोग की सदस्य ने कहा कि राजकीय बालगृह में 55 बालिकाएं संक्रमित मिली है। बालिका गृह में काफी लड़कियां पॉक्सो ऐक्ट में आती हैं, कम उम्र की होती हैं और उन्हें वहां रखा जाता है। जब बच्चियों को हैलट अस्पताल भेजा गया था तो हमारा स्टॉफ भी साथ में गया था तो किसी के टच में आ कर संक्रमण फैला होगा। राजकीय बालगृह में किसी भी पुरुष का जाना वर्जित है, वहां पर मेरा स्वयं का भी दौरा होता रहता है। आप लोग इसे अन्यथा नहीं लें।

सील हो गया बालिका गृह
स्वरूप नगर स्थित राजकीय बालिका गृह को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। बालिका गृह के स्टॉफ को क्‍वारंटीन कराया गया है। इससे पहले डॉक्टरों के पास दोनों किशारियों की किसी भी प्रकार की बैक हिस्ट्री नहीं थी। डॉक्टरों ने दोनों गर्भवती किशोरियों की बैक हिस्ट्री को समझने के लिए अधिकारियों से संपर्क किया। जिला प्रोबेशन अधिकारी अजीत कुमार के मुताबिक राजकीय बालिका गृह को सील कर दिया गया है। सभी दस्तावेज बालिका गृह में हैं।

कानपुर: सरकारी बाल संरक्षण गृह में 57 लड़कियों को कोरोना, कुल 7 प्रेग्‍नेंट, प्रशासन ने दी सफाई कानपुर: सरकारी बाल संरक्षण गृह में 57 लड़कियों को कोरोना, कुल 7 प्रेग्‍नेंट, प्रशासन ने दी सफाई Reviewed by Reshma Yadav on June 21, 2020 Rating: 5

No comments:

Please do not enter any spam link in the comment box. ( If are you want Backlink so please go to Backlink tab located on Menu bar Option )

Powered by Blogger.